सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

दार्जिलिंग में घूमने की 6 खूबसूरत जगह

दार्जिलिंग में घूमने की 6 खूबसूरत जगह


दार्जिलिंग एक पूर्वोत्तर भारत का विश्व विख्यात हिल स्टेशन है जहां पर लोग अक्सर गर्मियों में जाते हैं गर्मियों में भी यहां पर आपको अच्छी खासी सर्दियां मिल जाएंगे तो अगर आप दार्जिलिंग जा रहे हैं तो गर्म कपड़े ले जाना ना भूलें।

         यह विश्वविख्यात पर्वतीय क्षेत्र भी है जो भारत देश के पश्चिम बंगाल राज्य में कंचनजंगा पर्वत के साए में बसा हुआ है। दार्जिलिंग को प्रकृति ने भरपूर प्राकृतिक संसाधनों से सजाया बजाया है यहां के मनोरम प्राकृतिक वातावरण और शीतल जलवायु के कारण हजारों की संख्या में यहां पर देश-विदेश से सैलानी खींचे हुए चले आते हैं शिवालिक पर्वत माला की वादियों में समुद्र तल से लगभग 2042 मीटर की ऊंचाई पर बसा हुआ दार्जिलिंग पश्चिम बंगाल के शहर सिलीगुड़ी से 80 किलोमीटर ,न्यूजलपाईगुड़ी से 90 किलोमीटर और गंगटोक से 97 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।
दार्जिलिंग का सबसे निकटतम रेलवे स्टेशन न्यूजलपाईगुड़ी है यहां तक पहुंचने के लिए दिल्ली कानपुर पटना कोलकाता गुवाहाटी दिल्ली आदि जगहों से आपको ट्रेन में मिल जाएंगे।
                   


दार्जिलिंग में सड़क भी काफी अच्छी बनी हुई है न्यू जलपाईगुड़ी सिलीगुड़ी और गंगटोक से सीधी बस सेवा आपको दार्जिलिंग तक पहुंचा देगी इसके अलावा अगर आप अपने साधन टैक्सी से दार्जिलिंग जाना चाहते हैं तो आपको ज्यादा दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़ेगा आप बड़े ही आसानी से दार्जिलिंग जा सकते हैं।
                                दार्जिलिंग का सबसे निकटतम हवाई अड्डा बागडोगरा में बना हुआ है,जो दार्जिलिंग से 95 किलोमीटर की दूरी पर है दार्जिलिंग के लिए टॉय ट्रेन भी चलती है,जो पहाड़ियों के बीच से आपको दार्जिलिंग के पहाड़ों का आनंद लेते हुए आपको दार्जिलिंग तक पहुंचाएगी। अब बात करते हैं दार्जिलिंग के 6 सबसे खूबसूरत जगह जहां आपको जाना चाहिए-

#1 नाइटेंगल पार्क(Nightingale Park) - 

दार्जिलिंग के रिचमंड हिल(Richmond Hill) पर स्थित यह एक बहुत ही खूबसूरत पार्क है,जिसमें घूमते घूमते आप कई सारी पहाड़ियों के भी मजे ले पाएंगे।

        नाइटेंगल पार्क मध्य में एक म्यूजिकल पार्क भी लगा हुआ है,जहां पर आप शाम को काफी मजे ले सकते हैं,और आपको बहुत सारे मनमोहक नजारे देखने को मिलेंगे जिसमें बहुत सारे सैलानी दुनिया भर से आए हुए लोग आपको देखने को मिल जाएंगे।
                      यहां के मनमोहक दृश्य और वातावरण से आप अपनी सारी परेशानियों को भूल जाएंगे यहां पर ऐसे ऐसे फूल और मनमोहक दृश्य दिखाई देंगे जो आपके मन भा लेंगे।

#2 दार्जिलिंग रोपवे(Darjeeling ropeway) - 

दार्जिलिंग रोपवे आपको  मन मोह लेने वाले दृश्य दिखाएगा  दार्जिलिंग को भारत का सबसे सुंदर हिल स्टेशन माना जाता है, और भारत के सबसे सुंदर हिल स्टेशन के मजे लेने का सबसे अच्छा साधन है कि आप दार्जिलिंग के रोपवे पर सवार हो जाए और आसमान से दार्जिलिंग के पहाड़ियों खेतों झाड़ियों और सुंदर सुंदर  फूलों का मजा ले।
  .रोपवे में बैठकर आपको चाय के बागान बर्फ से ढकी हुई           पहाड़ियां दिख जाएंगी जो आपके मन मोह लेंगी।
   .जान लेते हैं इस रोपवे के बारे में यह भारत की पहली रोपवे हुए हैं।

#3 चौरस्ता(Chowrasta) -

दार्जिलिंग के माल रोड के पास चौरस्ता दार्जिलिंग की सबसे चहल-पहल वाली जगह है यहां पर काफी बड़ी खुली खुली जगह हैं जहां पर आपको कबूतरों के झुंड दाना चुनते हुए दिखे जाएंगे। जहां पर आपको बहुत सारे देश विदेश से आए हुए लोग उन कबूतरों के साथ फोटो खिंचवाते हुए दिख जाएंगे यह एक मन मोह लेने वाला दृश्य से होता है। चौरस्था के पास आप घुड़सवारी का भी आनंद ले सकते हैं जैसा कि आप जानते हैं दार्जिलिंग में चाय की खेती बहुत भारी मात्रा में होती है तो अगर आप चाय के दीवाने हैं तो यहां आपको बहुत ढेर सारी चाय की दुकानें मिल जाएंगे जहां पर आप चाय के मजे उठा सकते हैं

#4 टेनजिंग रॉक(Tenzing rock)-

दार्जिलिंग की पहाड़ियों को देखकर हो सकता है कि आपके मन में भी पर्वतारोही जाग जाए और आप पहाड़ों पर क्लाइंबिंग करने की सोचें तो आप सही सोच रहे हैं दार्जिलिंग में आपको पर्वतारोही बनने का पूरा मौका मिलेगा। तो आपको बता दूं कि तेनजिंग रॉक पर एक पहाड़ी है जहां पर कुशल प्रशिक्षकों की देखरेख में पर्वतारोहण की बारीकियां समझाई जाती है यह जगह पास ही मौजूद प्रख्यात हिमालयन माउंटेनियरिंग इंस्टीट्यूट(Himalayan mountaineering institute). 

#5 घूम मॉनेस्ट्री(Ghoom Monastery) -

दार्जिलिंग अपने बौद्ध मठों के लिए भी जाना जाता है, और घूम मॉनेस्ट्री यहां की सबसे पुरानी तिब्बत मॉनेस्ट्री है। केमिस्ट्री लगभग डेढ़ सौ 150 साल पुरानी है और इसके मध्य में एक मैत्री बुद्धा की एक 15 फीट ऊंची मूर्ति भी रखी हुई है जो इस बौद्ध मठ की शोभा में चार चांद लगाता है। यहां पर आपको रंग-बिरंगे झंडे भी देखने को मिलेंगे जिनकी बौद्ध धर्म बहुत मान्यता है और आपको हर मॉनेस्ट्री में यह झंडे देखने को मिल जायेंगे।

#6 पीस पगोड़ा(Peace pagoda)

पीस पगोड़ा यहां पर स्थित एक जापानी पीस पगोड़ा जो एक गुंबद जैसा स्ट्रक्चर वाली इमारत है इसके चारों ओर बुद्ध भगवान के चार रूप दर्शाए गए हैं ,यह इमारत इमारत सफेद कलर की पेंट की हुई है। यहां के द्वार सारे धर्मों के लिए खुले हैं और यहां पर दार्जिलिंग जाने वाला लगभग हर सैलानी इस जगह पर एक बार जरूर जाता है। यहां पर आपको काफी शांति मिलेगी और यहां पर आप ध्यान मुद्रा में बैठकर एक अभूतपूर्व शांति का अनुभव कर सकते हैं


टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भारत की जनगणना 2011 का संपूर्ण GK ज्ञान

भारत की जनगणना 2011 का संपूर्ण GK ज्ञान  -

भारत की जनगणना- 2011
भारत में जनगणना की शुरुआत कैसे हुई- भारत में जनगणना की शुरुआत 1872 में लॉर्ड मेयो ने शुरू की थी।भारत में नियमित जनगणना की शुरुआत 1881 ईस्वी में लार्ड रिपन के कार्यकाल में हुई थी 1881 ईस्वी में जनगणना आयुक्त W.W पलोडन वही स्वतंत्र भारत के पहले जनगणना 1951 ईसवी के समय जनगणना आयुक्त आर .ए गोपालस्वामी (1949- 53) ईस्वी थे। आधुनिक विश्व में सर्वप्रथम व्यवस्थित रूप से जनगणना कराने का श्रेय स्विडेन को है,जहां 1749 ईस्वी में पहली बार जनगणना कराई गई थी दशकीय जनगणना की शुरुआत 1790 ईसी.से अमेरिका में हुई। 1801 ईस्वी में इंग्लैंड में जनगणना प्रारंभ हुई थी।

भारत में जनगणना -

भारतीय संविधान की धारा 246 के अनुसार देश की जनगणना कराने का दायित्व सरकार को सौंपा गया है या संविधान की सातवीं अनुसूची की क्रम संख्या 69 पर अंकित है जनगणना संगठन केंद्रीय गृह मंत्रालय के अधीन कार्य करता है जिसका उच्चतम अधिकारी भारत का महापंजीयक एवं जनगणना आयुक्त होता है यह देश भर में जनगणना संबंधी कार्यों को निर्देशित करता है तथा जनगणना के आंकड़ों को जारी करता है वर्तम…

महेंद्र सिंह धोनी जीवन परिचय और उनके जीवन से जुड़े कुछ अनजाने तथ्य#

महेंद्र सिंह धोनी जीवन परिचय और उनके जीवन से जुड़े कुछ अनजाने तथ्य# 
 महेंद्र सिंह धोनी जी हाँ,आप लोग में से ऐसे बहुत कम लोग होंगे जिन्होंने इनका नाम शायद ही न सुना हो.
                  पेशे से तो भारतीय क्रिकटेर एवं पूर्व भारतीय कप्तान तथा सबसे सफल एकदिवसीय अंतर्राष्ट्रीय कप्तान परन्तु भारत टीम के महानतम खिलाडियों की फेप्रशंसको में से एक इनका नाम भी सबसे ऊपर सुमार किया जाता है।

                     आने वाले कई वर्षों तक इस भारतीय क्रिकेट के  इतिहास में इनके कार्यों और देश के प्रति 14 सालों की सेवा को भारतीय खिलाड़ी ही क्या बल्कि कोई नही भूल सकता।।
महानतम कप्तानों में से एक, बेहतरीन विकेटकीपर, उम्मदा फिनिशर, आक्रामक बल्लेबाजी और बेहतरीन नेतृत्व के लिए ये हमेशा याद किये जायेंगे।

                       इतना ही नही इन्होंने क्रिकेट के साथ साथ सेना में भी अपनी सेवा देके हमारे भारत देश को गौरान्वित किया है।
भारतीय क्रिकेट इतिहास में इन्होंने अपने साथी खिलाडियों के साथ मिलकर एवं अपने तेज एवं चालक दिमाग का उपयोग कर देश और विदेशी सरजमीं पर बहुत से ऐसे सुनहरे पल लाके दिये है जिससे हमारा सम्पूर…

भारत के प्रमुख शेयर बाजार और रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया से जुड़े GK ज्ञान-

 भारत के प्रमुख शेयर बाजार और रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया से जुड़े GK ज्ञान-

१. राष्ट्रीय शेयर बाजार(National stock market)भारत की प्रमुख  शेयर बाजार राष्ट्रीय शेयर बाजार की स्थापना सन 1991 में फेरवानी समिति ने की थी 1992 में सरकार ने भारतीय औद्योगिक विकास बैंक(IDBI) को इस बाजार की स्थापना का कार्य सौंपा आईडीबीआई ही राष्ट्रीय शेयर बाजार का प्रमुख प्रवर्तक है राष्ट्रीय शेयर बाजार(NSE)की प्रारंभिक अधिकृत पूंजी ₹250000000 है इसका मुख्यालय दक्षिण मुंबई में वर्ली में है।

२. ओवर  दी काउंटर एक्सचेंज ऑफ़ इंडिया(OTCEI) - इसकी स्थापना नवंबर 1992 में मुंबई में की गई थी या भारत में सर्वप्रथम ऑनलाइन ट्रेंडिंग सुविधा संपन्न कंप्यूटराइज्ड एक्सचेंज नैस्डेक के आधार पर की गई है। ओटीसीईआई में उन कंपनियों को सूचीबद्ध किया गया है जिनकी पूंजी का अस्तर 3000000 रूपए से ₹250000000 तक को स्टॉक एक्सचेंज में 49% विदेशी निवेश की अनुमति है इसमें विदेशी प्रत्यक्ष निवेश एफडीआई अधिकतम 26% तथा शेष 23% संस्थागत विदेशी निवेश एफ आई आई हो सकता है।

न्यू यॉर्क स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध भारत की कुछ कंपनियां हैं-

1. डॉ रेड्डी लैबो…