सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

भारत के प्रमुख शेयर बाजार और रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया से जुड़े GK ज्ञान-

                       भारत के प्रमुख शेयर बाजार और रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया से जुड़े GK ज्ञान-

१. राष्ट्रीय शेयर बाजार(National stock market)भारत की प्रमुख  शेयर बाजार राष्ट्रीय शेयर बाजार की स्थापना सन 1991 में फेरवानी समिति ने की थी 1992 में सरकार ने भारतीय औद्योगिक विकास बैंक(IDBI) को इस बाजार की स्थापना का कार्य सौंपा आईडीबीआई ही राष्ट्रीय शेयर बाजार का प्रमुख प्रवर्तक है राष्ट्रीय शेयर बाजार(NSE)की प्रारंभिक अधिकृत पूंजी ₹250000000 है इसका मुख्यालय दक्षिण मुंबई में वर्ली में है।

२. ओवर  दी काउंटर एक्सचेंज ऑफ़ इंडिया(OTCEI) - इसकी स्थापना नवंबर 1992 में मुंबई में की गई थी या भारत में सर्वप्रथम ऑनलाइन ट्रेंडिंग सुविधा संपन्न कंप्यूटराइज्ड एक्सचेंज नैस्डेक के आधार पर की गई है। ओटीसीईआई में उन कंपनियों को सूचीबद्ध किया गया है जिनकी पूंजी का अस्तर 3000000 रूपए से ₹250000000 तक को स्टॉक एक्सचेंज में 49% विदेशी निवेश की अनुमति है इसमें विदेशी प्रत्यक्ष निवेश एफडीआई अधिकतम 26% तथा शेष 23% संस्थागत विदेशी निवेश एफ आई आई हो सकता है।

न्यू यॉर्क स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध भारत की कुछ कंपनियां हैं-

1. डॉ रेड्डी लैबोरेट्रीज ,एचडीएफसी ,आईसीआईसीआई बैंक, एमटीएनएल विदेश संचार निगम लिमिटेड ,विप्रो ,टाटा मोटर्स।
भारतीय कंपनी अधिनियम के अंतर्गत प्रत्येक कंपनी को पूंजी के लिए अंशो के निर्गमन का अधिकार होता है इस प्रकार एकत्रित की गई पूंजी अंश पूंजी या शेयर कहलाती है शेयर होल्डर ओके स्टॉप पर हुई कमाई को लाभांश कहते हैं।

३.मुंबई स्टॉक एक्सचेंज(BSE) - इसकी स्थापना 1875 ईस्वी में स्टॉक एक्सचेंज मुंबई के नाम से किया गया था, जिसे 2002 में बदलकर बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज बीएसई कर दिया गया 19 अगस्त 2005 से बीएससी 1 पब्लिक लिमिटेड कंपनी में रूपांतरित हो गया है इसमें वर्तमान में 48 से भी अधिक भारतीय कंपनियां पंजीकृत हैं।

भारत के प्रमुख शेयर मूल्य सूचकांक-
१. बीएसई सेंसेक्स(BSE SENSEX) - यह मुंबई स्टॉक एक्सचेंज (स्टॉक एक्सचेंज ऑफ़ मुंबई) का संवेदी शेयर सूचकांक है या 30 प्रमुख शेयरों का प्रतिनिधित्व करता है इसका आधार वर्ष 1978 से 1979 ईस्वी है।

२. बीएसई 200(BSE200) - या बांबे स्टाक एक्सचेंज का 200 का प्रतिनिधित्व करता है इसका आधार वर्ष 1989 से 1990 ईसवी है।

३. DOLLEX- BSE 200 सूचकांक काही डालर मूल्य सूचकांक डालेक्स एक्स कहलाता है इसका आधार वर्ष 1989-1990 ईसवी है।

४. NSE-50: राष्ट्रीय स्टॉक एक्सचेंज(NSE) सूचकांक का नाम बदलकर S & P CNX Nifty रखा गया है।

भारतीय वित्त व्यवस्था से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण तथ्य- 

भारत में वित्तीय वर्ष 1 अप्रैल से 31 मार्च तक होता है। रिजर्व बैंक की स्थापना 1 अप्रैल 1935 को 5 करोड़ की अधिकृत पूंजी से हुई तथा 1 जनवरी 1949 को इसका राष्ट्रीयकरण किया गया। रिजर्व बैंक भारत का केंद्रीय बैंक है इसका मुख्यालय मुंबई में है भारत में मौद्रिक योग साख नीति रिजर्व बैंक द्वारा ही अपनाई गई है और लागू की जाती है।

१. सर आस्बोर्न स्मिथ- आरबीआई के प्रथम गवर्नर थे।
 प्रथम भारतीय एवं स्वतंत्र भारत के प्रथम आरबीआई गवर्नर सी डी देशमुख थे बैंकों के राष्ट्रीयकरण के समय एलके झा आरबीआई के गवर्नर से। भारतीय रिजर्व बैंक का लेखा वर्ष 1 जुलाई से 30 जून है ₹1 के नोट तथा सिक्के का निर्गमन वित्त मंत्रालय करता है तथा इसके अतिरिक्त समस्त करेंसी नोटों का निर्गमन रिजर्व बैंक करता है ₹1 के नोट पर केंद्रीय वित्त सचिव का हस्ताक्षर होता है भारतीय मुद्रा नोटों की छपाई के लिए कपास एवं कपास के लाते का उपयोग छपाई सामग्री के रूप में किया जाता है। आरबीआई व्यापारिक बैंकों के शाखा विस्तार का नियमन, व्यापार समापन का नियमन करती है।

              कोई भी बैंक अपनी किसी शाखा का स्थानांतरण बिना आरबीआई द्वारा एकत्रित तथा प्रकाशित अनुमति के नहीं कर सकता है आरबीआई तरलता प्रबंधन के अंतर्गत मंदी की स्थिति में अर्थव्यवस्था में तरलता बढ़ाने के लिए रेपो तथा रिवर्स रेपो की दर में कमी करता है तथा स्थिति को नियंत्रित करने के लिए दोनों दरों में वृद्धि करता है, जिससे तरलता में कमी आए मुद्रा की दशमणों प्रणाली के साथ प्रचलित नया पैसा एक अप्रैल 1957 से पैसा हो गया।

विश्व के प्रसिद्ध शेयर बाजारों के सूचकांक-

शेयर मूल्य सूचकांक                     स्टॉक एक्सचेंज
डो जोंस                                       न्यूयॉर्क
निक्की                                        टोक्यों                                               
मिड डेक्स                                     फ्रैंकफर्ट 
हाग सेंग                                         हॉन्ग कोंग
 सीमैक्स स्टेटस टाइम्स                     सिंगापुर
शंघाई काम                                     चीन
नास दाक                                        यूएसए

1 जुलाई 2011 से देश में 25 पैसे व इससे कम मूल्य के सभी सिक्के अस्थाई रूप से प्रचलन में सामान्य हो गए भारत में पहला व्यापारिक बैंक जनरल बैंक आफ इंडिया था जिसे 1786 में खोला गया था इसके बाद 1790 में बैंक ऑफ हिंदुस्तान खोला गया यह सभी बैंक यूरोपियन थे भारतीयों द्वारा प्रबंधित समिति दलित का प्रथम भारतीय अवध कमर्शियल बैंक था जिसे 18 सो 81 में स्थापित किया गया था इसके बाद 5894 पंजाब नेशनल बैंक की स्थापना की गई जो पूर्ण रूप से भारतीयों द्वारा प्रबंधित था। 

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भारत की जनगणना 2011 का संपूर्ण GK ज्ञान

  भारत की जनगणना 2011 का संपूर्ण GK ज्ञान  -                         भारत की जनगणना- 2011 भारत में जनगणना की शुरुआत कैसे हुई - भारत में जनगणना की शुरुआत 1872 में लॉर्ड मेयो ने शुरू की थी।भारत में नियमित जनगणना की शुरुआत 1881 ईस्वी में लार्ड रिपन के कार्यकाल में हुई थी 1881 ईस्वी में जनगणना आयुक्त W.W पलोडन वही स्वतंत्र भारत के पहले जनगणना 1951 ईसवी के समय जनगणना आयुक्त आर .ए गोपालस्वामी (1949- 53) ईस्वी थे। आधुनिक विश्व में सर्वप्रथम व्यवस्थित रूप से जनगणना कराने का श्रेय स्विडेन को है,जहां 1749 ईस्वी में पहली बार जनगणना कराई गई थी दशकीय जनगणना की शुरुआत 1790 ईसी.से अमेरिका में हुई। 1801 ईस्वी में इंग्लैंड में जनगणना प्रारंभ हुई थी। भारत में जनगणना - भारतीय संविधान की धारा 246 के अनुसार देश की जनगणना कराने का दायित्व सरकार को सौंपा गया है या संविधान की सातवीं अनुसूची की क्रम संख्या 69 पर अंकित है जनगणना संगठन केंद्रीय गृह मंत्रालय के अधीन कार्य करता है जिसका उच्चतम अधिकारी भारत का महापंजीयक एवं जनगणना आयुक्त होता है यह देश भर में जनगणना संबंधी कार्यों को निर्देशित करता है तथ

महेंद्र सिंह धोनी जीवन परिचय और उनके जीवन से जुड़े कुछ अनजाने तथ्य#

महेंद्र सिंह धोनी जीवन परिचय और उनके जीवन से जुड़े कुछ अनजाने तथ्य#   महेंद्र सिंह धोनी जी हाँ,आप लोग में से ऐसे बहुत कम लोग होंगे जिन्होंने इनका नाम शायद ही न सुना हो.                   पेशे से तो भारतीय क्रिकटेर एवं पूर्व भारतीय कप्तान तथा सबसे सफल एकदिवसीय अंतर्राष्ट्रीय कप्तान परन्तु भारत टीम के महानतम खिलाडियों की फेप्रशंसको में से एक इनका नाम भी सबसे ऊपर सुमार किया जाता है।                      आने वाले कई वर्षों तक इस भारतीय क्रिकेट के  इतिहास में इनके कार्यों और देश के प्रति 14 सालों की सेवा को भारतीय खिलाड़ी ही क्या बल्कि कोई नही भूल सकता।। महानतम कप्तानों में से एक, बेहतरीन विकेटकीपर, उम्मदा फिनिशर, आक्रामक बल्लेबाजी और बेहतरीन नेतृत्व के लिए ये हमेशा याद किये जायेंगे।                        इतना ही नही इन्होंने क्रिकेट के साथ साथ सेना में भी अपनी सेवा देके हमारे भारत देश को गौरान्वित किया है। भारतीय क्रिकेट इतिहास में इन्होंने अपने साथी खिलाडियों के साथ मिलकर एवं अपने तेज एवं चालक दिमाग का उपयोग कर देश और विदेशी सरजमीं पर बहुत से ऐसे सुनहरे पल लाके दिये है जिससे हमा