सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कोरोना के डर को लेकर भी जरूरी है:इम्यूनिटी

कोरोना के डर को लेकर भी जरूरी है इम्यूनिटी

हमारी भावनाएं संवेदनाएं एक दूसरे से प्रभावित होती हैं,इसलिए हम हैं,सामाजिक प्राणी।पर यदि आप इन दिनों परिवेश में फैल रहे डर के प्रभाव में आकर परेशान हो रहे हैं तो बिना भय के इसका सामना करें डर के प्रति भी आपको अपनी इम्युनिटी मजबूत करनी होगी।यह सही नहीं कि आप दिन भर सोशल मीडिया या फेसबुक-इंस्टाग्राम और टि्वटर स्क्रॉल करते रहें,और खुद को डर की चपेट में लाकर चुपके से बड़े खतरे पैदा कर ले डर एक शक्तिशाली भाव है।पर ऐसा बिल्कुल नहीं है कि आप इस पर विजय प्राप्त नहीं कर सकते हैं।आपको पता है डर हमारे लिए एक हद तक बेहद जरूरी चीज है। किसी भी संकट में आप उससे लड़ने के लिए तैयार रहते हैं,हां!आप पर यह हावी होने लगे तो इससे बचने की पहल भी खुद करनी होगी।
        कोशिश करें कि डर पर आप हावी हो जाएं उसके प्रतिभाओं को कम से कम करें आप सोच रहे होंगे कि ऐसा कौन सा तरीका है जिसकी मदद से आप डर को खत्म कर सकते हैं बेशक कई तरीके हैं कुछ लोग को आपने देखा होगा जो लोग दूसरे लोगों की मदद करते हैं या कल्याणकारी कार्यों में संलग्न है ऐसे लोग समान वातावरण में रहकर भी भयमुक्त महसूस करते हैं।
   हमारे मन के दो हिस्से हैं एक जो डर से परेशान है इससे ज्यादा नहीं सोच पाता और दूसरा अपने मूल्यों नियत,नेक कार्य, बुद्धि और करुणा आदि भावों के कारण खुद को भय से ऊपर मानता है इस कोलाहल भरे परिवेश में जब आपको समझ में ना आए कि आप क्या हैं तो दो काम करें पहला खुद से सवाल करें कि इस संकट भरे समय में भी मुझे क्या बनाना है वह ग्रस्त बने रहना या मन के दूसरे हिस्से को महसूस करना यानी अपने मूल अपनी नियत पर भरोसा रखना है दूसरा उक्त सवाल से आपको जो जवाब मिल रहा है उन्हें लिख ले कुछ ही समय में आप देखेंगे कि घर पर काबू हो रहा है आप समझ पाएंगे कि मन में डर का जो संक्रमण हो चुका है उसके पर एक रक्षात्मक ढाल बन गया है फल अतः आप अधिक चुस्त और एकाग्र महसूस करेंगे खुद से जुड़ा बढ़ता जाएगा इस समय हमें इन्हीं चीजों की जरूरत है

टिप्पणियां

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

भारत की जनगणना 2011 का संपूर्ण GK ज्ञान

भारत की जनगणना 2011 का संपूर्ण GK ज्ञान  -

भारत की जनगणना- 2011
भारत में जनगणना की शुरुआत कैसे हुई- भारत में जनगणना की शुरुआत 1872 में लॉर्ड मेयो ने शुरू की थी।भारत में नियमित जनगणना की शुरुआत 1881 ईस्वी में लार्ड रिपन के कार्यकाल में हुई थी 1881 ईस्वी में जनगणना आयुक्त W.W पलोडन वही स्वतंत्र भारत के पहले जनगणना 1951 ईसवी के समय जनगणना आयुक्त आर .ए गोपालस्वामी (1949- 53) ईस्वी थे। आधुनिक विश्व में सर्वप्रथम व्यवस्थित रूप से जनगणना कराने का श्रेय स्विडेन को है,जहां 1749 ईस्वी में पहली बार जनगणना कराई गई थी दशकीय जनगणना की शुरुआत 1790 ईसी.से अमेरिका में हुई। 1801 ईस्वी में इंग्लैंड में जनगणना प्रारंभ हुई थी।

भारत में जनगणना -

भारतीय संविधान की धारा 246 के अनुसार देश की जनगणना कराने का दायित्व सरकार को सौंपा गया है या संविधान की सातवीं अनुसूची की क्रम संख्या 69 पर अंकित है जनगणना संगठन केंद्रीय गृह मंत्रालय के अधीन कार्य करता है जिसका उच्चतम अधिकारी भारत का महापंजीयक एवं जनगणना आयुक्त होता है यह देश भर में जनगणना संबंधी कार्यों को निर्देशित करता है तथा जनगणना के आंकड़ों को जारी करता है वर्तम…

महेंद्र सिंह धोनी जीवन परिचय और उनके जीवन से जुड़े कुछ अनजाने तथ्य#

महेंद्र सिंह धोनी जीवन परिचय और उनके जीवन से जुड़े कुछ अनजाने तथ्य# 
 महेंद्र सिंह धोनी जी हाँ,आप लोग में से ऐसे बहुत कम लोग होंगे जिन्होंने इनका नाम शायद ही न सुना हो.
                  पेशे से तो भारतीय क्रिकटेर एवं पूर्व भारतीय कप्तान तथा सबसे सफल एकदिवसीय अंतर्राष्ट्रीय कप्तान परन्तु भारत टीम के महानतम खिलाडियों की फेप्रशंसको में से एक इनका नाम भी सबसे ऊपर सुमार किया जाता है।

                     आने वाले कई वर्षों तक इस भारतीय क्रिकेट के  इतिहास में इनके कार्यों और देश के प्रति 14 सालों की सेवा को भारतीय खिलाड़ी ही क्या बल्कि कोई नही भूल सकता।।
महानतम कप्तानों में से एक, बेहतरीन विकेटकीपर, उम्मदा फिनिशर, आक्रामक बल्लेबाजी और बेहतरीन नेतृत्व के लिए ये हमेशा याद किये जायेंगे।

                       इतना ही नही इन्होंने क्रिकेट के साथ साथ सेना में भी अपनी सेवा देके हमारे भारत देश को गौरान्वित किया है।
भारतीय क्रिकेट इतिहास में इन्होंने अपने साथी खिलाडियों के साथ मिलकर एवं अपने तेज एवं चालक दिमाग का उपयोग कर देश और विदेशी सरजमीं पर बहुत से ऐसे सुनहरे पल लाके दिये है जिससे हमारा सम्पूर…

भारत के प्रमुख शेयर बाजार और रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया से जुड़े GK ज्ञान-

 भारत के प्रमुख शेयर बाजार और रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया से जुड़े GK ज्ञान-

१. राष्ट्रीय शेयर बाजार(National stock market)भारत की प्रमुख  शेयर बाजार राष्ट्रीय शेयर बाजार की स्थापना सन 1991 में फेरवानी समिति ने की थी 1992 में सरकार ने भारतीय औद्योगिक विकास बैंक(IDBI) को इस बाजार की स्थापना का कार्य सौंपा आईडीबीआई ही राष्ट्रीय शेयर बाजार का प्रमुख प्रवर्तक है राष्ट्रीय शेयर बाजार(NSE)की प्रारंभिक अधिकृत पूंजी ₹250000000 है इसका मुख्यालय दक्षिण मुंबई में वर्ली में है।

२. ओवर  दी काउंटर एक्सचेंज ऑफ़ इंडिया(OTCEI) - इसकी स्थापना नवंबर 1992 में मुंबई में की गई थी या भारत में सर्वप्रथम ऑनलाइन ट्रेंडिंग सुविधा संपन्न कंप्यूटराइज्ड एक्सचेंज नैस्डेक के आधार पर की गई है। ओटीसीईआई में उन कंपनियों को सूचीबद्ध किया गया है जिनकी पूंजी का अस्तर 3000000 रूपए से ₹250000000 तक को स्टॉक एक्सचेंज में 49% विदेशी निवेश की अनुमति है इसमें विदेशी प्रत्यक्ष निवेश एफडीआई अधिकतम 26% तथा शेष 23% संस्थागत विदेशी निवेश एफ आई आई हो सकता है।

न्यू यॉर्क स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध भारत की कुछ कंपनियां हैं-

1. डॉ रेड्डी लैबो…