भगवती चरण वर्मा की कविताएँ

 

भगवती चरण वर्मा जी एक महान व्यक्ति के साथ एक महान साहित्यकार कवि थे। भगवती चरण वर्मा जी को सन 1971 में पदम् भूषण से सम्मानित किया गया था



हम भिकमंगों की दुनिया में

स्वछंद लूटा  कर  प्यार  चले, 

हम एक निशानी सी उर पर

ले असफलता का भार चले। 

     

                  अब अपना और पराया क्या? 

                   आबाद  रहें    रुकनें    वाले, 

                  हम स्वयं  बंधे  थे  और स्वयं

                   हम अपनें बंधन तोड़ चले। 

   

                                   भगवती चरण वर्मा


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें