गुलजार की शायरी


                        #1 थोड़ा रफु करके देखिये ना ,

फिर से नई सी लगेगी जिंदगी ही तो है। 

                                     Guljaar sahab


      #2 मै वो क्यो बनु जो तुम्हे चाहिए, 

        तुम्हें वो कुबूल क्यों नही जो मैं हु। 

                                 Guljaar sahab


#3 बहुत छालें है उसके पैरों मे कम्बख्त 

उसूलों पर चला होगा। 

                          Guljaar sahab


#4 बहुत अंदर तक जला देती हैं वो शिकायतें, 

जो बयां नहीं होती। 

                        Guljaar sahab


#5 कोन कहता है की हम झूठ नही बोलते, 

एक बार खैरियत पूछी तो होती। 

                    Guljaar sahab


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें