महादेवी वर्मा

         



अश्रु यह पानी नही है- महादेवी वर्मा

    

         अश्रु यह पानी नही है, यह व्यथा चंदन नही

                                  है! 

           यह ना समझो देव पूजा के सजिले उपकरण

                               ये, 

          यह न मानो अमरता से मांगने आये शरण

                               ये

      स्वाति को खोजा नही है औ न सीपी को

                            पुकारा, 

        मेघ से मांगा न जल, इनको न भाया सिंधु  

                             खारा, 

          सुभ्र मानस से छलक आये, तरल ये ज्वाल 

                             मोती, 

           प्रण की निधियां अमोलक बेंचने का धन 

                              नही है। 

       अश्रु यह पानी नही है यह व्यथा चंदन नही 

                                  है! 

  

            नमन सागर को नमन विष्पांन की उज्वाल

                           कथा को, 

          देव दानव पर नही समझे कभी मानव

                            प्रथा को, 

          कब कहा इसने की इसका गरल कोई अन्य

                              पी ले, 

         अन्य का विष् माँग कहता हे स्वजन तु और 

                              जी ले, 

        यह स्वयं जलता रहा देने अथक आलोक 

                             सबको, 

         मनुज की  छबी देखने को मृत्यु क्या दर्पण

                                नही है, 

         अश्रु यह पानी नही है यह व्यथा चंदन 

                                 नही है! 

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें